Agnimantha Weight Loss in Hindi | अग्निमंथा वेट लॉस इन हिंदी

वजन कम करने के सबसे उत्तम उपाय

Agnimantha Weight Loss in Hindi
Agnimantha Weight Loss in Hindi

Agnimantha Weight Loss in Hindi: दोस्तों आज हम जानेंगे अग्निमंथ के बारे में। अग्नि मंथ एक आयुर्वेदिक औषधि के रूप में प्रयोग की जाने वाली जड़ी-बूटी है। प्रकृति ने हमें कई तरह की दवाएं बिल्कुल मुफ्त दी हैं।

लेकिन हम इनके फायदों के बारे में नहीं जानते हैं। अग्निमंथा का इस्तेमाल आज के समय में कई फार्मा कंपनियां वजन कम करने के लिए इसका इस्तेमाल कर रही हैं। जो अच्छे परिणाम भी दे रहा है।


अग्निमंथ क्या है?

यह 25 से 30 फीट का पेड़ होता है, कभी-कभी इसमें छोटे-छोटे पेड़ होते हैं। इसकी शाखाओं पर कांटे होते हैं। इसके फल बैंगनी और काले रंग के होते हैं। इसके फूल अप्रैल-मई में तथा फल मई-जून में होते हैं।


अग्निमंथ की कुल कितनी जातियाँ हैं?

बडा मटका
छोटी कटोरी

आप इसे भी पढिये आपके काम आयेगा ये आर्टिकल: पीरियड में वजन कम करने के उपाय

अग्निमंथा के विभिन्न नाम

लैटिन नाम- प्रेमना म्यूक्रोनाटा रोक्स्ब।
संस्कृत नाम- अग्निमंथ:
हिंदी में - अर्नि
गुजराती में
अग्नि मंथा के पेड़ कहाँ पाए जाते हैं?

उत्तर प्रदेश, बंगाल, बिहार, गंगा के आसपास के मैदानों में पाए जाते हैं।


आयुर्वेद के अनुसार अग्निमंथा के गुण

  • गुण- लघु और खुरदरा
  • रस-टिक कड़वे कसैले मीठे
  • विपाक - कड़वा
  • वीर्य - गर्म


आयुर्वेद के अनुसार अग्निमंथ के उपयोग

  • यह कफ विरोधी है।
  • यह दर्द और सूजन को कम करता है।
  • यह पाचन तंत्र के लिए विशेष रूप से उपयोगी है। पाचन की चयापचय प्रक्रियाओं में सुधार करता है।
  • यह रक्त शोधक है।
  • चर्म रोग दूर करता है।
  • शरीर पर जमा अनावश्यक चर्बी को हटाता है।
  • भोजन की कमी आपके भोजन के पाचन से संबंधित समस्याओं को दूर करती है।
  • मधुमेह रोगियों के लिए फायदेमंद। क्योंकि यह शुगर लेवल को कंट्रोल करता है।
  • कब्ज दूर करता है। पेट के कीड़ों को दूर करता है।
  • श्वसन तंत्र से संबंधित रोग, खांसी, जुकाम अस्थमा की समस्या को दूर करता है।
  • वासमेह, पुयमेह सूजाक उपदंश में बहुत प्रभावी औषधि है।
  • प्लीहा बढ़ने, ठण्डा पित्त होने पर अग्निमंथा की जड़ को पीसकर सेवन किया जाता है।
  • बुखार, पीलिया के बाद कमजोरी होने पर इसके पत्तों का रस या छाल को उबालकर पीने से लाभ होता है।


अग्निमंथा के सेवन की मात्रा

  • चूर्ण - 1 ग्राम से 3 ग्राम
  • पत्तों का रस - मीटर से 20 मिली मात्रा
  • छाल का काढ़ा - 50 मिली से 100 मिली मात्रा



अग्निमंथा का उपयोग करने के लाभ | Benefits of Using Agnimantha In Hindi

  • आयुर्वेद के प्राचीन विज्ञान के आधार पर अग्निमंथा अतिरिक्त चर्बी को जलाता है और परिणाम 10 सप्ताह में दिखाई देता है। इसके कुछ फायदे इस प्रकार हैं
  • यह कोलेस्ट्रॉल और ट्राइग्लिसराइड्स को कम करता है।
  • अग्निमंथा कैप्सूल शरीर पर बढ़े हुए फैट को कम करने में मदद करता है, भूख को नियंत्रित करता है।
  • अग्निमंथा कैप्सूल पेट पर जमा अतिरिक्त चर्बी को कम करके आपको फिट और चुस्त बनाता है।
  • यह किडनी की समस्या, गॉल ब्लैडर, हाइपरटेंशन जैसी समस्याओं से निजात दिलाता है।
  • अग्निमंथा शरीर की ऊर्जा को बिल्कुल भी प्रभावित नहीं करता है, यह दवा पूरी तरह से सुरक्षित है।



अग्निमंथा के आयुर्वेद के पीछे का विज्ञान

आज जिस तरह से हमारे खान-पान और दिनचर्या में बड़ा बदलाव आया है, वजन बढ़ने की समस्या और मोटापे से पीड़ित लोगों की संख्या बढ़ती जा रही है।

मनुष्य स्वयं को स्वस्थ और निरोगी रखना चाहता है। बहुत कम ऐसे लोग होते हैं जो अपनी सेहत पर ध्यान देते हैं। मोटापा कम करने की कोशिश में कई लोग असफल साबित होते हैं।

अग्निमंथा प्राकृतिक जड़ी बूटियों से पेट की चर्बी कम करने की अचूक दवा है। यह औषधि वात दोष, कफ दोष और कब्ज में राहत देती है, साथ ही इसमें मूत्रवर्धक गुण होते हैं, जो वसा को घोलकर मूत्र के द्वारा शरीर से बाहर निकाल देते हैं।


अग्निमंथा के दुष्प्रभाव | Side Effects of Agnimantha In Hindi

  • आयुर्वेदिक होने के कारण इसका कोई साइड इफेक्ट नहीं है। लेकिन फिर भी इसका इस्तेमाल करते समय हमें कुछ बातों का ध्यान रखना चाहिए।
  • इसका सेवन गर्भवती या स्तनपान कराने वाली महिलाओं और बच्चों द्वारा नहीं किया जा सकता है।
  • रोजाना योग और व्यायाम करें और अच्छे परिणाम के लिए हरी और पत्तेदार सब्जियां खाएं।
  • आटा, सफेद ब्रेड और चावल जैसी चीजों का सेवन कम करें।
  • अपच की स्थिति में इसका अधिक मात्रा में सेवन न करें।

इसका उपयोग करने से पहले, कृपया डॉक्टर या डॉक्टर से परामर्श लें।

Post a Comment

To be published, comments must be reviewed by the administrator *

Previous Post Next Post